10 अंक प्रतिवर्ष देकर अतीथि शिक्षकों को नियमिति किया जाए -भूरिया।

म.प्र . में शासकीय विद्यालयों में वर्तमान लगभग 70 हजार अतिथि शिक्षक विगत 12 वर्षों से अधिक समय से अपनी अल्प वेतन में सेवा दे रहे है । इन्ही के माध्यम से शासकीय विद्यालय में बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे है किन्तु सरकार ने इतने लम्बे समय से इनकी ओर ध्यान नहीं दिया ओर न ही इनकी समस्याओं का हल किय गया है । इनके द्वारा वर्षों से नियमित करने की मांग की है ।

Advertisement

इन्हे प्रतिवर्ष जुलाई अगस्त में पदभार ग्रहण कराया जाता है तथा अप्रैल माह में इनकी सेवाएं समाप्त कर दी जाती है जो कि अनुचित है।इनकी समस्याओं का तत्काल हल म.प्र.शासन को करना चाहिए तथा लॉकडाउन समय का मानदेय भी दिया जाना चाहिए । उक्त जानकारी देते हुए युवक कांग्रेस अध्यक्ष एवं विधायक प्रतिनिधि डॉ विक्रान्त भूरिया एवं जिला कांग्रेस प्रवक्ता भटट ने जानकारी देते हुए बताया प्रदेशके 70 हजार से अधिक अथिति शिक्षकों की समस्याओं को लेकर झाबुआ विधायक कांतिलाल भूरिया ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंहजी चौहान को पत्र लिख कर उनकी समस्याओं से अवगत कराया है जिसमें संविदा शिक्षकों को पात्रता मापदण्ड पूरा करने वाले अतिथि शिक्षकों को नियमित करने की कार्यवाही करने एवं 2019-20 कार्य करने वाले अतिथि शिक्षकों को माह जून 2020 तक सम्पूर्ण वेतन प्रदाय करने एवं अन्य राज्यों की तर्ज पर अतिथि शिक्षकों के हित में निति बनाई जावे । तथा पांच सत्र अथवा 600 दिवस कार्यदिवस पूर्ण करने वाले समस्त अथिति शिक्षकों को वर्तमानमानेदय पर यथावत रखा जावे।साथ लगातार चार वर्ष तक सेवा देने वाले अथिति शिक्षकों को प्रतिवर्ष 10 अंक का लाभ देकर वरिष्ठता के आधार पर सेवा में रखा जावे जिससे इतने वर्षों तक सेवा देने वाले अतिथि शिक्षकों को वेरोजगार न होना पडे । साथ लॉकडाउन के समय का सम्पूर्ण वेतन अतिथि शिक्षकों को भी तत्काल देने के आदेश प्रदान करने की मांग भी की है जिससे वे अपने परिवार का पालन पोषण कर सकें ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.