UGC-generel Promotion से दी गई डिग्री अवैध।

Ugc ने कहा है कि सभी यूनिवर्सिटीज हमारी गाइडलाइंस मानने के लिए बाध्य हैं

Advertisement

परीक्षाओं को लेकर जारी गाइडलाइन पर यूजीसी कहना है कि आयोग के रेगुलेशन के तहत सभी विश्वविद्यालय उसे मानने के लिए बाध्य है । हालांकि यह विवाद का समय नहीं है । सभी विवि को गाइडलाइन के तहत परीक्षाएं करानी चाहिए ।

आयोग के सचिव रजनीश जैन ने कहा कि उन्होंने सभी राज्यों को परीक्षाओं को लेकर जारी गाइडलाइन और उसे कराने के लिए तय किए गए मानकों . का ब्यौरा भेज दिया है । फिर भी यदि विश्वविद्यालयों को किसी भी मुद्दे को लेकर कोई भ्रम है , तो वह संपर्क कर सकते है । उन्होंने कहा कि जहां तक बात परीक्षाओं की है तो कोरोना संकट के चलते वह पहले से इसे लेकर विश्वविद्यालयों को काफी सहूलियतें दे चुके हैं ।

रोना के इस संकटकाल में भी दुनिया का कोई विवि या उच्च शैक्षणिक संस्थान बगैर परीक्षा या असेसमेंट के सर्टिफिकेट नहीं दे रहा है । ऐसे में यदि भारतीय विश्वविद्यालय ऐसा करते है , तो इसका असर उनकी वैश्विक साख पर भी पड़ेगी । साथ ही जो भारतीय छात्र अपनी डिग्रियों या सर्टिफिकेट को लेकर नौकरियों के लिए जाएंगे , उन्हें भी इस चुनौती की सामना करना पड़ सकता है । यूजीसी देश में विश्वविद्यालयों की सबसे बड़ी नियामक संस्था है । सभी डिग्री कोर्स इसकी मंजूरी के बाद ही मान्य होते है । इसके साथ ही सभी विश्वविद्यालयों को शैक्षणिक और शोध से जुड़ी गतिविधियों को संचालित करने के लिए यह वित्तीय मदद भी देती है ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.