अतीथि विद्वानों को निकालकर RGPV कैसे कराएगा ऑनलाइन परीक्षाएं।

Gurujiofficial

तीन लाख ज्यदा इंजीनियरिंग विद्यार्थिये की परीक्षा लेना आरजीपीवी प्रबंधन के लिए चुनौती बनता जा रहा है । दो दिन पहले आरजीपीवी प्रबंधन ने 80 से ज्यादा तकनीकी अतिथि विद्वानों को नौकरी से निकाल कर घर बैठा दिया । पहले से कर्मचारियों और संसाधनों की कमी से जूझ रहा आरजीपीवी प्रबंधन अब तकनीकी कॉलेजों को ऑनलाइन परीक्षा के लिए तैयारी करने के निर्देश दे रहा है । मामले में केंद्र सरकार मानव संसाधन मंत्रालय एवं यूजीसी की गाइडलाइन आने का इंतजार किया जा रहा है , जिसके बाद नया टाइम टेबल जारी किया जाएगा । आरजीपीवी प्रबंधन ने इससे पले 10 मई से प्रदेश में तकनीकी कक्षाओंकी परीक्षाओं का आयेजनकरने का ऐलान किया था , लेकिन तैयारियां पूरी नहीं होने से इन्हें ऐन वक्त पर निरस्त कर दिया गया । तकनीकी अतिथि विद्वानों को नौकरी से निकाले जाने के बाद आरजीपीवी प्रबंधन के सामने प्राइवेट कॉलेजों में भेजे जाने वाले मास्टर ट्रेनर ( जो ऑनलाइन परीक्षाओं का आयोजन करवाते हैं की कमी हो गई है । आरजीपीवी प्रबंधन इससे पहले इतने बड़े पैमाने पर ऑनलाइन परीक्षाओं का आयोजन करवाने अनुभव नहीं रखता है , इसलिए इस काम के लिए ज्यादा से ज्यादा कर्मचारियों की आवश्यकता बताई जा रही थी । कुलपति सुनील कुमार गुप्ता के मुतायिक केंद्र सरकार से निर्देश मिलने के बाद परीक्षाओं की तैयारियों को अतिम रूप दिया जाएगा । फिलहाल सभी तकनीकी कॉलेजें को तीन लाख से ज्यादा इंजीनियरिंग विद्यार्थियों को एक छत के नचे बैठाकर कंप्यूटर ऑनलाइन परीक्षाएं के लिए तैयार रहने को कहा गया है । परीक्षाएं कैसे होंगी , तकनीकी कॉलेज इतनी बड़ी संख्या में कंप्यूटर कहां लाएंगे , परीक्षाओं की निगरानी लिए आरजीपीवी अतिरिक्त कर्मचारियों की व्यवस्था कैसे करेगा , इन सभी सवालों के जवाब तकनीकी शिक्षा संचालनालय अधिकारियों के पास भी नहीं है । इधर तकनीकी अतिथि विद्वान संगठन के प्रदेश अध्यक्ष देवांश ने बताया कि कुलपति सुनील कुमार गुप्ता प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के याद मनमानी पर उतारू हो गए हैं संविदा पर रखे गए तकनीकी अतिथि विद्वानों को बिना किसी सूचना के नौकरी से निकाल दिया गया है जबकि सभी कर्मचारी पिछले महीने से बिना एवं भत्ते लिए काम कर रहे थे । जैन कस कि इतनी बड़ी संख्या कर्मचारियों को निकाले जाने परीक्षाओं का आयोजन मुश्किल हो जाएगा ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.