10 वी की मेरिट के आधार पर जापान जाएंगे MP के छात्र ।अंग्रेजी आना जरूरी।

सरकारी स्कूलों में यूथ एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत विदेश के स्कूलों की शिक्षा पद्धति को समझने के लिए एक्सचेंज प्रोग्राम शुरू किया जा रहा है । ऐसे में प्रदेश के सरकारी स्कूलों के छात्र – छात्राओं को स्कूल शिक्षा विभाग शैक्षणिक भ्रमण के लिए पहली बार जापान भेजने की तैयारी कर रहा है । इसके तहत इस बार मानव संसाधन विकास मंत्रालय ( एमएचआरडी ) नई दिल्ली की ओर से प्रदेश के सरकारी स्कूलों के बच्चों को एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत विदेश भेजने के निर्देश दिए हैं । 20 बच्चों की मांगी सूची जानकारी के अनुसार जापान की शिक्षा पद्धति समझने के लिए सरकारी स्कूलों के 10 बच्चे जापान एशिया यूथ प्रोग्राम इन साइंस के तहत वहां जाएंगे । इसके लिए सरकारी स्कूलों में कक्षा 11वीं व 12वीं के बच्चों का चयन किया जाएगा बच्चों को यथ एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत भजन के लिए विभाग को प्रत्येक संभाग से मारट आधार पर दो – दो बच्चों का चयन कर करीब 20 बच्चों की सूची एमएचआरडी का भजनी है इसमें से 10 बच्चों का जापान के लिए चयन किया जाएगा । यह भ्रमण मई म एक सप्ताह के लिए होगा । बच्चों के पासपोर्ट बनाने का प्रक्रिया भी शरू की जाएगी । इस संबंध में लोक शिक्षण संचालनालय ( डीपीआई ) ने निर्देश जारी कर स्कूलों से बच्चों की सूची मांगी है ।

जापान भ्रमण के दौरान स्कूली बच्चों को जापान के अत्याधुनिक साइंस व टेक्नोलॉजी और वैज्ञानिकों से वैचारिक आदान – प्रदान करने का मौका मिलेगा । इसमें प्रत्येक संभाग से एक छात्र या छात्रा का मेरिट के आधार पर चयन किया जाएगा । इन बच्चों के 10वीं बोर्ड की परीक्षा में 90 फीसदी से अधिक अंक हासिल किए हैं और उनकी उम्र 15 वर्ष से कम है । इसके साथ ही छात्र को अंग्रेजी बोलने ज्ञान होना भी जरूरी है ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.