Atithi Shikshak +B.ed -एक ही सत्र में लोक शिक्षण के आदेश से संशय।

जिन अभ्यर्थियों के द्वारा अतिथि शिक्षक देखते हुए उसी सत्र में B.Ed पूर्ण किया गया है या किसी अन्य उपाधि को अर्जित किया गया है तो उसके संबंध में लोक शिक्षण संचालनालय के द्वारा 276 2020 को जारी एक आदेश में स्पष्ट प्रावधान दिए गए हैं और इन प्रावधानों में कहा गया है कि अगर अतिथि शिक्षक रहते हुए कोई उपाधि अर्जित की गई हैं तो इसे निरस्त माना जाएगा

Advertisement

याद इस देखकर कई अभ्यर्थियों के मन में संशय उत्पन्न हो जाएगा जिन्होंने अतिथि शिक्षक रहते हुए कोई भी अपनी डिग्री की है या कोई भी अपनी उपाधि अर्जित किए हैं क्योंकि अगर आप अतिथि शिक्षक हैं तो अतिथि शिक्षक रहते हुए आपने अर्जित की है उपाधि तो इसे यहां पर अवैध माना गया है और निरस्त किया गया है लेकिन पिछली कुछ सरकारों के बयान अगर देखें तो अतिथि शिक्षक की नौकरी को स्थाई रोजगार ना मानकर एक पार्ट टाइम जॉब के रूप में देखा जाता है और एक पार्ट टाइम जॉब के साथ कोई भी डिग्री की जा सकती है शिक्षक के लिए पूरे दिन स्कूल में रहना अनिवार्य नहीं होता है मात्र 2 से 3 घंटे में अतिथि शिक्षक अपने पीरियड खत्म करके अपने महाविद्यालय में अध्ययन तू जा सकता है लेकिन यहां पर इस प्रकार का आदेश जारी करके डीपीआई में अतिथि शिक्षकों के साथ अच्छा नहीं किया है और इस आदेश का पूर्ण रुप से विरोध किया जाना चाहिए

Leave a Comment

Your email address will not be published.