नियमानुसार ही कि जाएगी वर्ग 1 की भर्ती -स्कूल शिक्षा मंत्री।

शिक्षकों की भर्ती में वर्ग -2 पद कम करने का मामला थमा भी नहीं था कि अब वर्ग -1 में रही भर्ती पर प्रदेशभर में बवाल मचा है । दरअसल , नियमानुसार कोर सब्जेक्ट वाले प्रतिभागियों प्राथमिकता दी जाना चाहिए , लेकिन उनकी उपेक्षा कर अलाइड विषय वालों को मेरिट के आधार पर रखा जा रहा है । यानी , ऐसा हो सकता कि पद विज्ञान पढ़ाने वाले शिक्षकों के लिए हैं , उन पर बीई की डिग्री वाले इंजीनियर को भी नियुक्त किया जा सकता शिवपुरी सहित प्रदेशभर सैकड़ों उम्मीदवार वर्ग -1 के तहत रही उच्च माध्यमिक शिक्षकों भर्ती प्रक्रिया का विरोध कर रहे हैं आरोप है कि पात्रता की शतें पूरी करने के बावजूद अलाइड विषय वाले वालों को नौकरी की तैयारी की जा रही जिससे मूल विषय के क्वालीफाई उम्मीदवारों का हक छिन जाएगा शिक्षा विभाग ने 17 हजार शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया से पूर्व जो नियम बनाए थे , उनका उल्लंघन किया जा रहा है । जैसे- जीव विज्ञान विषय के लिए नियमानुसार केवल मूल विषय अभ्यर्थियों को पात्र माना जा गया है । 28 अगस्त 2018 को जारी हुए शासन के आदेश की कंडिका 1.1 में लिखा कि मूल विषय वाले ही पात्र माने जाएंगे , लेकिन मेरिट लिस्ट में आए उम्मीदवार निर्धारित योग्यता नहीं रखते हैं । यानी , वे तकनीकी शिक्षा वाले हैं , लेकिन मेरिट ऊपर होने के कारण उन्हें विज्ञान जैसे विषयों में प्राथमिकता दी रही है । ऐसे में सवाल उठ रहा कि नियम विरुद्ध यदि तकनीकी शिक्षा वाले प्रतिभागियों की नियुक्ति विज्ञान शिक्षक के रूप में कदी तो वह हायर सेकंडरी के विद्या यिों विज्ञान कैसे पढ़ा पाएंगे ? इसी तरह अन्य विषयों को लेकर विसंगति सामने आ रही है , जो मूल विषय कोर सब्जेक्ट ) के उत्तीर्ण आवेदकों के अधिकारों का हनन जबकि छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश में हाल ही में शिक्षकों की भर्ती की गई , जिनमें मूल विषय के अभ्यर्थियों को पात्र माना गया । युवाओं का कहना है कि हम लोगों ने बड़ी मुश्किल से वर्ग -1 के लिए क्वालीफाई किया और विषय विशेषज्ञ की दक्षता रखते हैं । शासन नियमों से परे जाकर अब हमारी जगह दूसरे विषय वालों को रखा रहा है । इससे हमारे हक पर तो डाका डाला ही जा रहा है ।

Advertisement

कोर सब्जेक्ट वालों को अवसर दिया जाएगा

वर्ग -1 में शिक्षकों की नियुक्ति नियमानुसार ही की जाएगी विषयवार शिक्षक ही रखे जाएंगे । कोर सब्जेक्ट वाले प्रतिभागियों को ही अवसर मिलेगा अलाइड वाले बाहर किए जाएंगे किसी के हक पर डाका नहीं डालने दिया जाएगा

। इंदर सिंह परमार , स्कूल शिक्षा मंत्री

2 thoughts on “नियमानुसार ही कि जाएगी वर्ग 1 की भर्ती -स्कूल शिक्षा मंत्री।”

  1. प्रति
    संपादक महोदय
    दैनिक भास्कर

    विषय :- मध्य प्रदेश उच्च माध्यमिक शिक्षक भर्ती में बायोलॉजी के अ लायड सब्जेक्ट जैसे Microbiology, Biotechnology etc. को डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन में रिजेक्ट करने के संबंध में l

    महानुभाव
    इस ईमेल के माध्यम से मैं आपका ध्यान मध्य प्रदेश में उच्च माध्यमिक शिक्षक की भर्ती प्रक्रिया में हो रही अनियमितता की तरफ आकर्षित करना चाहता हूं l आशा है कि भारत के नंबर 1 हिन्दी अखबार मेरे और मेरे आलावा 800 उम्मीदवारों की इस समस्या को अधिकारीयों ज़न प्रतिनिधियों तक पंहुचाने में मददगार साबित होगा l

    1.भर्ती का आधार स्कूल शिक्षा विभाग का पत्र क्रमांक एफ/01/119/ 2018/20-1 दिनांक 28.08.2018 की नियम 1.1 है। इस पत्र में केवल सम्बंधित विषय में स्नातकोत्तर डिग्री माँगा गया है।
    2. बायोलॉजी से सम्बंधित विषय जैसे Microbiology Biotechnology, Genetics, Biochemistry etc.को बायोलॉजी से संबंधित विषय नहीं माना जा रहा है l सिर्फ Botany और Zoology को ही संबंधित विषय माना गया है l जब कि केन्द्र और अन्य पड़ोसी राज्यों में इन विषयों को मान्य किया गया है l
    3. भर्ती करने वाली संस्था लोक शिक्षण संचालनालय बायोलॉजी विषय में अपने मनमाने नियम लगा रहा है।
    4. ये पत्र यहाँ संलग्न है आप स्वयं इसको पढ़कर या विशेषज्ञ से पूछकर देखिये कि लिखा कुछ है और नियम कुछ चलाया जा रहा है।
    5. आप स्वयं पता कर सकते हैं कि बायोलॉजी से सम्बंधित विषय कौन कौन से होते हैं।
    6. मेरा पूर्ण विश्वास है आखिर में आप पाएंगे कि हम अभ्यर्थियों के साथ दिनदहाड़े कितना अन्याय हो रहा है।
    7. 2005, 2011 में भी इन सब्जेक्ट के कैंडिडेट्स को भर्ती किया गया है l
    8. Vyapam/PEB मध्य प्रदेश की विज्ञप्ति में भी ऐसी किसी शर्त का विवरण नहीं है l
    9. फॉर्म भरने दिया गया, एक्जाम देने दिया गया, रिज़ल्ट भी आया, मेरिट चयन सूची में नाम भी आ गया अब डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन की प्रक्रिया में होल्ड या रिजेक्ट किया जा रहा है l
    10. कृपया कर इस विषय का विस्तार से अध्ययन कर अपने अखबार में कवरेज देने की कृपा करें l
    11. इस पर चर्चा/ बहस और मीडिया कवरेज की बहुत आवश्यकता है l

Leave a Comment

Your email address will not be published.