MPTET आधी अधूरी भर्ती ,माध्यमिक और उच्च शिक्षक के पद रह जाएंगे खाली।

प्रदेश के शाशकीय स्कूल लंबे समय से शिक्षकों की कमी से जूझ रहे हैं । पिछली सरकार द्वरा जिन शिक्षकों की भर्तियां की गई थी उन शिक्षकों में कई तो ऐसे हैं जिन्हें किताब देखकर पड़ना और लिखना नहीं आता है। ऐसे कुछ शिक्षकों को सरकार ने जबरन रिटायर करने का निर्णय लिया था लेकिन बाद में सरकार को इन्हें बापस लेना पड़ा था।

प्राथमिक शिक्षक की तैयारी हेतू किताबो की सूचीhttps://www.gurujiofficial.com/store/books-for-mptet-मध्यप्रदेश-प्राथमिक-शि/

ऐसे में जिन अभ्यर्थियों के द्वारा प्रतिस्पर्धा परीक्षा पास की गई है सरकार उनकी पूरी भर्ती नहीं कर पा रही है।

उच्च शिक्षक के 15 हजार पदों पर शुरुआती चरण में भर्ती की जा रही है।

जबकि माध्यमिक के सिर्फ 5670 पदों पर ही भर्ती की जा रही है। कई विषयों में पदों की संख्या इतनी है कि एक जिले में केबल एक पद आ रहा है।

विज्ञान, सामाजिक विज्ञान ,हिंदी की उपेक्षा-

सरकार के द्वारा विज्ञान जैसे महत्वपूर्ण विषय जिसका की विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे NEET आदि में महत्वपूर्ण स्थान है ,उपेक्षा की जा रही हैं ।

इस भर्ती के बाद भी प्रदेश के गांवों के स्कूलों में शिक्षकों के करीब 15 हजार पद लगभग खाली रह जाएंगे । इसकी दो वजह हैं । पहली – 2013 के बाद से शिक्षकों की भर्ती नहीं हुई । दूसरी – पिछले साल ऑनलाइन तबादला प्रक्रिया में गायों के स्कूलों के शिक्षकों ने शहरों में ट्रांसफर करा लिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published.