माध्यमिक शिक्षक के पदों में अब वृद्धि होकर रहेगी RTE के अनुसार होगा पदक्रम ।

मध्यप्रदेश प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा (ऑनलाइन) के लिए Peb द्वारा जारी पाठ्यक्रम पर आधारित नवीनतम पुस्तकें बाजार मे आ गई हैं -कुछ विश्वशनीय पुस्तकों की सूची यहां पर उपलब्ध है देखने के लिए क्लिक करें https://www.gurujiofficial.com/store/books-for-mptet-मध्यप्रदेश-प्राथमिक-शि/

माध्यमिक शिक्षक की भर्ती का इंतजार कर रहे युवाओं ने जब अपने विषय हिंदी विज्ञान और सामाजिक विज्ञान के पद देखें तो खुद पर पछतावे के सिवाय कोई सहारा नहीं दिखाई दे रहा था । क्योंकि विज्ञान हिंदी सामाजिक विज्ञान आदि के पद इतने भी नहीं थे की एक जिले में 1 पद आ सके । ऐसे में आवेदकों के सामने पहाड़ सा टूट पड़ा । इतने दिनों से बो जिस भर्ती का इंतजार कर रहे थे उस भर्ती में अब उन्हें अपना चयन होता नहीं दिखाई दे रहा था । ऐसे में उनके लिए एक देवदूत बनकर आये सुशील मेहरा जी क्योंकि वो पहले ही भांप गए थे कि इस भर्ती में विज्ञान विषय के पद कम निकल सकते हैं इसलिए उन्होंने पहले ही इस पर केस दायर कर दिया था और भर्ती को rte के नियमों के मुताबिक करने की मांग की थी। चूँकि मध्यप्रदेश के लोक शिक्षण संचालनालय ने अपनी सुविधा के हिसाब से rte एक्ट 2009 के प्रावधानों को मोड़ दिया है और माध्यमिक शाला में प्रथम पद जहां विज्ञान और गणित सयुंक्त रूप से था वहां पर सिर्फ गणित को तबज्जो दी और कहा की गणित बाला विज्ञान पड़ा देगा। जो कि एक कामचलाऊ तरीका है। जबकि ctet में भी विज्ञान के शिक्षक की भर्ती rte के नियमानुसार होती है। इस केस में सुनवाई के बाद कोर्ट ने dpi मध्यप्रदेश को आदेश दिया कि कृपया इस आशय का शपथ पत्र न्यायालय में प्रस्तुत करें कि rte एक्ट के अक्षरशः पालन किया जा रहा है । इस dpi लगातर कोर्ट के आदेश की अवमानना करता रहा और अब तक कर रहा है। अब कोर्ट द्वारा dpi को सख्त आदेश दिया गया है कि उसके द्वारा दिये गए आदेश के परिपालन में 1 हफ्ते की मांग जो उसके द्वारा की गई थी । अर्थात 1 हफ्ते का समय दिया जाता है। और 1 हफ्ते में अनिवार्य रूप से कोर्ट में dpi को जबाब देना है। कोर्ट ने स्पष्ट किया है कि जब तक इस केस का अंतरिम निराकरण नही किया जाता तब तक किसी प्रकार की नियुक्ति नहीं कि जा सकेगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published.