शिक्षक बनने के लिए महिलाओं के आ रहे ज्यादा आवेदन -अब तक 7 लाख पार ।

कॅरियर बनाने के लिए स्वयं का रोजगार करने के बजाय ज्यादातर युवा अभी भी सरकारी नौकरी को तरजीह दे रहे हैं । यही वजह है कि पिछले डेढ़ साल में 13 लाख युवाओं ने स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए आवेदन किए । इनमें उच्च माध्यमिक , माध्यमिक और प्राथमिक तीनों श्रेणी के शिक्षकों के पद शामिल हैं । दूसरी तरफ कारोबार करने , कारखाना खोलने , व्यवसाय करने के उद्देश्य से लोन लेने के लिए सिर्फ दो हजार युवाओं ने ही आवेदन किए । प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड ने पिछले डेढ़ साल में दो श्रेणियों शिक्षकों उच्च माध्यमिक और माध्यमिक शिक्षक बनने के लिए पात्रता परीक्षा आयोजित की । पिछले साल ली गई इन पदों की परीक्षा शिक्षकों के 22 हजार पदों के लिए 6 लाख युवाओं ने आवेदन किए थे । बोर्ड द्वारा अप्रैल में प्राथमिक शिक्षक पद के लिए परीक्षा ली जाएगी । इस पद के लिए संख्या का खुलासा नहीं किया गया ।

मध्यप्रदेश प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा (ऑनलाइन) के लिए
Peb द्वारा जारी पाठ्यक्रम पर आधारित नवीनतम पुस्तकें बाजार मे आ गई हैं -कुछ विश्वशनीय पुस्तकों की सूची यहां पर उपलब्ध है
देखने के लिए क्लिक करें

https://www.gurujiofficial.com/store/books-for-mptet-मध्यप्रदेश-प्राथमिक-शि/

7 लाख से ज्यादा आवेदन पहुंचे . . . इसकी वजह यह है कि निजी स्कूलों व अनुकंपा नियुक्ति के लिए भी पात्रता परीक्षा की शर्त रखी गई है । प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए आवेदन की आखिरी तारीख 4 फरवरी है । शनिवार तक 7 लाख से ज्यादा आवेदन पहुंच चुके हैं । पीईबी के परीक्षा नियंत्रक एकेएस भदौरिया का कहना है कि दिन पहले तक साढ़े पांच लाख आवेदन किए जा चुके थे ।
पुरुषों की तुलना में युवतियों एवं महिलाओं में शिक्षक बनने का क्रेज अधिक है । तीनों श्रेणियों के लिए आवेदन करने वालों में भी इनकी तादाद 65 % थी । साथ ही मुख्य नियंत्रक महालेखाकार , कैग अपनी रिपोर्ट में 2016 में डीएड बीएडधारी लोगों को ही शिक्षक बनाए जाने का जिक्र कर चुके हैं । प्रदेश में 600 डीएड , बीएड , एमएड के निजी व सरकारी कॉलेज हैं । इनसे हर साल 40 हजार युवा डिग्री – डिप्लोमा करके निकलते हैं । – रमाकांत पांडे , विश्लेषक शिक्षण व्यवस्था

Leave a Comment

Your email address will not be published.