Nios D.El.Ed Ncte Approved Letter- अब बिहार के nios deled अभ्यर्थी बनेंगे शिक्षक

Nios deled अभ्यर्थियों के लिए आज एक अच्छी खबर निकलके सामने आई nios d.el.ed ncte approved letter अब बिहार के अभ्यर्थियों के हाथ में है क्योंकि ncte ने पटना हाई कोर्ट के निर्णय को स्वीकार कर लिया है 

Advertisement

इस संवंध में माननीय hrd मंत्री श्री रमेश पोखरियाल निशंक ने tweet किया है उन्होने अपने tweet में बताया है की 

माननीय पटना उच्च न्यायालय ने NIOS और किसी अन्य NCTE मान्यता प्राप्त संस्थान के माध्यम से किए गए D.El.Ed पाठ्यक्रम के बीच रोजगार के उद्देश्यों के लिए समकक्षता बनाए रखने हेतु जो निर्णय दिया, न्यायालय के निर्णय का सम्मान करते हुए NCTE ने इस फैसले को स्वीकार कर लिया है। 

और इस संवंध में उन्होंने ncte के निर्णय की कॉपी भी दी है  Nios D.El.Ed Ncte Approved Letter

Nios D.El.Ed Ncte Approved Letter

क्या था पटना हाई कोर्ट का निर्णय — Nios D.El.Ed Ncte Approved Letter download

पटना हाईकोर्ट ने डिप्लोमा इन एलिमेंटरी डिग्रीधारियों को ( NIOS D.El.Ed ) शिक्षक बहाली प्रक्रिया में शामिल होने की अनुमति देते हुए बड़ी राहत दी थी । हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को 30 दिनों के अंदर इन आवेदनपत्र स्वीकारने का निर्देश दिया था । 2.5 लाख डीएलएड डिग्रीधारकों के भविष्य का ये सवाल था जस्टिस प्रभात कुमार झा ने इस मामले पर पहले ही सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रखा था। 18 माह के डिप्लोमा इन एलिमेंटरी एजुकेशन डिग्रीधारी शिक्षकों को राज्य सरकार ने पंचायत शिक्षकों की बहाली प्रक्रिया में शामिल होने की अनुमति नहीं दी थी। हाईकोर्ट ने इनके पक्ष में निर्णय दिया था ।

यह कोर्स सरकार द्वारा की जाने वाली प्रारंभिक शिक्षकों की बहाली को अयोग्य करार दिया गया था। कारण बताया गया था कि राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) के मुताबिक टीईटी को भी आवेदक के पास दो वर्षीय प्रशिक्षण की डिग्री होनी चाहिए।

मालूम हो कि 18 महीने के डीएलएड कार्यक्रम को उन लाखों शिक्षकों के लिए आयोजित किया गया था जो अप्रशिक्षित थे और शिक्षा के अधिकार कानून के चलते उनकी नौकरी जाने का खतरा मंडरा रहा था। एनआईओएस ने करीब 13-14 लाख शिक्षकों को यह कोर्स कराया था। इसके लिए संसद में कानून पारित कर विशेष रूप से मंजूरी ली गई थी। हालांकि, यह कोर्स करने के बाद जब बिहार के निजी स्कूलों में पढ़ा रहे शिक्षकों ने सरकारी भर्ती के लिए आवेदन किया तो बिहार सरकार ने एनसीटीई से इस बारे में राय मांगी कि क्या ये शिक्षक भर्ती के लिए योग्य हैं? इसके जवाब में एनसीटीई ने 18 महीने के डीएलएड कार्यक्रम को अमान्य करार दे दिया था । एनसीटीई के इस फैसले से इन 13 लाख शिक्षकों का बड़ा नुकसान हो रहा था 

1 thought on “Nios D.El.Ed Ncte Approved Letter- अब बिहार के nios deled अभ्यर्थी बनेंगे शिक्षक”

  1. Vipul Tripathi

    तो क्या यह approval सिर्फ बिहार के शिक्षक हेतु ही लिये गया है बाकी up और अन्य प्रदेशों के शिक्षक का क्या होगा हम सभी ने भी तो nios के माध्यम से ही यह कोर्स किया है क्या हमें भी कोर्ट में सुनवाई के पश्चात ही ncte से approval मिलेगा? अब अलग अलग प्रदेश के लिए सभी अलग अलग केस लड़ेंगे एक ही approval हेतु जो सभी ने एक समान ही किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.